17  भाई, बहनों की एक साथ हुई शादी, 300 गाड़ियों में आई बारात, हजारो लोगों का खाना, देखे अनोखी शादी,,,

अभी तक आपने ऐसी कई शादीया देखी होगी जहां पर एक दो या तीन भाइयों की शादियां या भाई बहनों की शादियां होते हुए नजर आती है और परिवार वाले एक साथ अपने दो या तीन लड़के लड़कियों की शादियां कर देते हैं, लेकिन बीकानेर से ऐसा एक मामला सामने आया है, जहां पर एक दो नहीं बल्कि 5 भाई और 12 बहनों की शादी एक साथ हुई है, यह शादी काफी चर्चा का विषय बनी हुई है.

आज फिर आएगा पश्चिमी विक्षोभ, राजस्थान के इन 5 स्थान पर हो सकती है बारिश, 4-6 डिग्री तक गिरेगा तापमान

5 भाई और 12 बहनों की शादी एक साथ

आपकी जानकारी के लिए बता दे की, बीकानेर से करीब 50 किलोमीटर दूर बस नोखा तहसील का लालनदेसर एक छोटा गांव है, यहां पर सामूहिक विवाह हुआ है, जहां पर एक साथ 17 भाई बहनों की शादी एक दिन हुई है. एक दिन पहले  5 भाइयों की बारात गई और अगले दिन गांव में 300 गाड़ियों के साथ 12 बारात आई है.

राजस्थान में फिर कब होगी बारिश, देखे मौसम विभाग की रिपोर्ट

17 भाई बहनों के दादा का बड़ा फैसला

शादी में परिवार वालों के साथ-साथ डेढ़ सौ परिवारों की आबादी वाला पूरा गांव भी शामिल था. यक यहा का,  ऐसा पहला मामला था जहां पर पांच भाइयों और 12 बहनों की शादी एक साथ हुई. आशीर्वाद समारोह और खाना एक साथ रखा गया इस अनु के सामूहिक विवाह के पीछे बचा है इन 17 भाई बहनों के दादा का बड़ा फैसला था.

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत सभी को मिल रही मुफ़्त राशन सामग्री, इस तरह से जोड़े इस योजना में अपना नाम, देखे

सुरजाराम गोदारा का परिवार

लालमदेसर छोटा गांव में रहने वाले सुरजाराम गोदारा के पांच बेटे हैं। इनका नाम ओमप्रकाश, गोविन्द गोदारा, मानाराम, भागीरथ व भैराराम है। गांव में सूरजाराम के परिवार के 117 सदस्य रहते हैं। सभी खेती-किसानी से जुड़े हैं। पांचों बेटों का परिवार अलग-अलग घरों में रहता है लेकिन आदेश सुरजाराम गोदारा का ही चलता है। इसके साथ ही आज भी परिवार के सभी बड़े आयोजनों का हिसाब भी वे खुद ही रखते हैं, इस शादी को एक साथ करने का फेसला भी उन्ही का है।

सरकार आपके घर पर लगाने जा रही फ्री में सोलर पेनल, जाने किस तरह से करे इस योजना में आवेदन,,,देखे  

एक के बाद एक 12 की हुई सगाई

उनके परिवार में काफी लड़के लड़कियां हैं, जिनकी सगाई या होती चली गई और एक के बाद एक सगाई होने लगी और सभी की शादियां करीब आ गई ऐसे में कुल 5 बेटे और 12 बेटियां शामिल थी, ऐसे में उन्होंने फैसला लिया कि इन सभी की शादी एक सामूहिक विवाह के रूप में ही करें.

आज का मौसम: मौसम विभाग ने फिर किया अलर्ट जारी, राजस्थान में फिर शुरू होगा बारिश का दौर

6000 लोगों के खाने की व्यवस्था की गयी

जैसे ही शादी के बारे में पता चला था उनके साथ उनका गांव भी शादी की तैयारी में जुट गया और बारात आने वाले दिन सभी ने पूरी तैयारी शुरू कर दी. 6 घरों में बारात रोकने की व्यवस्था की गई और एक खेत में बड़ा सा टेंट लगाया गया इसके साथ 6000 लोगों के खाने की व्यवस्था भी मेहमानों की की गई थी.

12 बारातों के स्वागत के लिए पूरा गांव उमड़ पड़ा, बारातियों के ठहरने और खाने की व्यवस्था के लिए सभी को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई और इस तरह से यह शादी संम्पन हुई।

Some Error