वैश्विक मांग से कनाडाई काबुली चना का निर्यात प्रदर्शन बेहतर

अच्छी वैश्विक मांग से कनाडाई काबुली चना का निर्यात प्रदर्शन बेहतर। वर्ष 2023 की पहली तिमाही के दौरान कनाड़ा से काबुली चना का निर्यात प्रदर्शन बेहतर देखा जा रहा है क्योंकि आयातक देशों में इसकी मांग मजबूत बनी हुई है। चालू वर्ष के दौराने कनाडा के साथ-साथ अमरीका में भी इसके बिजाई क्षेत्र में बढ़ोत्तरी होने का अनुमान लगाया जा रहा है। बाजार भाव ऊंचा रहने से यह अनुमान सच साबित हो सकता है। फिलहाल इसकी आपूर्ति एवं उपलब्धता की स्थिति सगम बनी हुई है। आगामी समय में भारत सहित कुछ अन्य देशों का काबुली चना वैश्विक बाजार में उपलब्ध हो जाएगा।

कनाडाई काबुली चना

मैक्सिको में मौसम की हालत फसल के लिए पूरी तरह अनुकूल नहीं है इसलिए उत्पादक इसके क्षेत्रफल को घटाने का प्लान बना सकते हैं। इससे बाजार में तेजी को बल मिलने की संभावना है। वहां आगामी नई फसल के लिए अग्रिम अनबंध पर चर्चा कम हो रही है। यही हाल कनाडा में भी है। इससे व्यापार विश्लेषकों को न केवल हैरानी हो रही है बल्कि काबुली चना के बिजाई क्षेत्र में बढ़ोत्तरी होने पर संदेह भी है। पश्चिमी कनाडा की मंडियों में नम्बर 2 क्वालिटी के बड़े दानेवाले काबुली चना का भाव 50 सेंट प्रति पौंड पर स्थिर बना हुआ है जबकि अप्रैल-मई के मूवमेंट के लिए इसमें मामूली उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है।

कनाडाई काबुली चना

आगामी नई फसल के लिए अग्रिम अनुबंध मूल्य 44-45 सेंट प्रति पौंड बताया जा रहा है। कहीं-कहीं यह 46 सेंट पर भी पहुंच गया है। कनाडा में अगले कुछ सप्ताहों में काबली चना की बिजाई आरंभ होने वाली है जबकि इसकी नई फसल अगस्तसितम्बर में तैयार होकर मंडियों में आएगी लेकिन इसकी खरीदबिक्री के लिए नया अनुबंध अभी से शुरू हो गया है। फीड क्वालिटी के चना का दाम भी 30-35 सेंट प्रति पौंड पर पहुंचा है जो लाल मसूर की कीमत के समतुल्य है। मालूम हो कि वर्ष 2021 के दौरान कनाडा में भयंकर सूखा पड़ने से काबुली चना का उत्पादन घटकर 80 हजार टन से भी नीचे आ गया था लेकिन विशाल पिछले स्टॉक के कारण उसके निर्यात पर कोई असर नहीं पड़ा। वर्ष 2022 में उत्पादन बेहतर हुआ और इसके सहारे वहां से निर्यात भी अच्छा हो रहा है। समीक्षकों के अनुसार कृषि विभाग ने पूरे सीजन के लिए जो निर्यात लक्ष्य नियत किया है उसके अनुरूप ही इसका मासिक शिपमेंट हो रहा है।
व्यापार अपने विवेक से करें

Some Error