किसानों के लिय हाइब्रिड बीज फायदेमंद, लेकिन खेती के लिए बेहतर क्यों नहीं? जानिए इसके पीछे की वजह?

इस समय अधिकतर किसान हाइब्रिड बीजों का इस्तेमाल खेती में करते हैं, ताकि वह जल्दी और ज्यादा उत्पादन इन बीजों के माध्यम से अपनी फसल में कर सकते हैं। विशेषज्ञों का भी मानना है कि, पारंपरिक किस्म की तुलना में हाइब्रिड किस्म में ज्यादा जल्दी फसल तैयार हो जाती है।

हाइब्रिड बीज फायदेमंद क्यों नही

लेकिन हाइब्रिड बीज की क्वालिटी होती है, वह पारंपरिक किस्मों की तुलना में थोड़ी कम होती है। साथ ही इसके स्वाद में भी अंतर देखा जाता है। इसके अलावा हाइब्रिड बीजों के उपयोग से देश की फसल और स्थानीय जलवायु के लिए अधिक अनुकूल पारंपरिक किस्म के लिए भी खतरा पैदा होता है।

किसानो को खेतों में ट्रांसफार्मर लगाने के लिए सरकार दे रही 50% पैसा, कृषक मित्र योजना हुई लॉन्च, देखे इसके फायदे

आपको बता दे की, हाइब्रिड बीजों को इस तरह से डिजाइन किया जाता है कि, यह दो या दो से अधिक पौधों के क्रॉस पोलिनेशन से बनाए जाते हैं, जिसमें की दो वैरायटी बीजो के गुण एक ही बीच में मिला दिए जाते हैं। इन बीजों को तीन श्रेणियां में विभाजित किया जाता है।

हाइब्रिड बीज महंगे क्यों होते है?

हाइब्रिड बिज देसी बीच की तुलना में ज्यादा मजबूत और अधिक पैदावार देते हैं। साथ ही उत्पादन में भी समय सीमा कम कर देते हैं। हाइब्रिड बीजो में दो से अधिक बीजों के गुण आ जाते हैं, जिसके चलते या महंगे भी होते हैं हाइब्रिड बीज से फसलों को उठाकर खाद्य उत्पादन के संकट से निपटा जा सकता है, लेकिन इसे हासिल हुई उपज देसी किस्म के मुकाबले काफी कम पोषण के साथ उपलब्ध होती है।

वही किसानों को भी इसके हिस्सेदारी में भी घाटा हुआ है, हाइब्रिड बीज के इस्तेमाल से भारत के बीच बाजारों पर भी काफी फर्क देखा गया है। पारंपरिक किस्मों के बिज की हिस्सेदारी भी इसमें घटते हुए नजर आ रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार बताया गया है की, हाइब्रिड बीज ज्यादातर राष्ट्रीय और बहु राष्ट्रीय निजी का क्षेत्र के फार्मा कंपनी विकसित करती है, जिससे कि भारतीय बीच की हिस्सेदारी कम होती है।

सूखे की मार झेल रहे किसान के लिए सोगात, अब ले सकते है, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ…

किसानों ने बताया है की, हाइब्रिड किस्म के बीच ज्यादा उत्पादन करते हैं, लेकिन यदि कम बारिश होती है तो यह काफी संवेदनशील होते हैं। हाइब्रिड किस्म की बुवाई के 15 से 20 दिनों के भीतर बारिश होना आवश्यक होती है लेकिन ऐसे में यदि बारिश नहीं होती है तो उसका नुकसान नहीं उठाना पड़ता है।

Some Error