PM मोदी ने किया बड़ा ऐलान… अब हर गली में खुलेगी यह दुकान, आपके पास भी है कमाई का शानदार मौका?

सरकार लगातार लोगों को रोजगार प्रदान करने के लिए और उनकी आमदनी बढ़ाने के लिए कई तरह के प्रयास करती रहती है. साथ ही उनके स्वास्थ्य का भी ख्याल रखती है. ऐसे में हाल ही में दिल्ली से लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संबोधित किया गया था और इसके बाद एक बड़ा ऐलान भी किया गया था.

जन औषधि केन्द्रों से कमाई

इस योजना के अंतर्गत देशभर उन्होंने जन औषधि केन्द्रों की संख्या 10000 से बढ़कर 25000 करने की तैयारी की जा चुकी है. इसके साथ ही जेनेरिक दावों की उपलब्धता बढ़ाने के उद्देश्य से इस योजना को लागू किया गया था जो कि, आज के समय में आपके लिए यह कमाई का एक अच्छा साधन बन सकता है.

राजस्थान में इन जिलों में लुढका पारा, मौसम विभाग ने जारी किया 5 दिनों का पूर्वानुमान

देश की जनता को सस्ते दामों पर बीमारी के इलाज के लिए दवा मुहैया कराने में जन औषधि केदो की आज बड़ी भूमिका देखी जा सकती है. वहीं इसका रिस्पांस भी काफी अच्छा देखने को मिला है. इसके साथ ही सरकार 2024 तक देश भर में 10000 जन औषधि केदो की स्थापित करने का लक्ष्य रखा गया, जिसे बढ़ाकर 25000 करने की तैयारी हो चुकी है आपको बता दे की है.

यूनिवर्सिटी केंद्र को डालकर आप अपने क्षेत्र में अच्छे पैसा भी कमा सकते हैं वही या लोगों के लिए भी काफी फायदेमंद है यदि आप देखते हैं तो किसी मरीज को डायबिटीज के लिए औसत ₹3000 मासिक खर्च करने की आवश्यकता होती है लेकिन वही दवाइयां की कीमत ₹100 होती है इंजन औषधि केंद्र पर उन्हें मैच 10 से ₹15 में उपलब्ध करवाया जा सकता है पीएम ने आगे का है कि सरकार की योजना जन औषधि केदो पर ज्यादा ध्यान देने की है ताकि सस्ते दामों पर जेनेटिक दवाई उपलब्ध करवाई जा

सारे काम छोड़ो इस बिजनेस से आप पहले महीने से ही कमा लोगे 1 लाख रूपए, देखे Business Idea

जन औषधि केन्द्रों की पात्रता

आपको बता दे की जन औषधि केंद्र कौन खोल सकता है और उसकी पात्रता क्या है. इसकी पहली कैटेगरी में कोई भी व्यक्ति बेरोजगार, फार्मासिस्ट, कोई डॉक्टर या फिर रजिस्टर मेडिकल प्रैक्टिशनर इस औषधि केंद्र को खोल सकता है.

इसके साथ इसमें प्राइवेट हॉस्पिटल, NGO और ट्रस्ट भी शामिल है. तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों की तरफ से एजेंसी को भी जन औषधि केंद्र खोलने की इजाजत दी गई है. प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना के तहत एससी एसटी और दिव्यांग आवेदकों को ₹50000 तक की दवा एडवांस में भी दी जाती है. इन दुकानों को जन औषधि केन्द्रों के नाम से ही खोला जाएगा.

Some Error