वैज्ञानिको ने खीज निकाई गेंहू की सबसे ज्यादा पैदावार देने वाली किस्म, एक हेक्टेयर में देगी 87.01 क्विंटल गेंहू

हम सभी जानते हैं कि पर्यावरण में लगातार बदलाव होते हुए नजर आते हैं, जिसको देखकर फसलों में भी आपको बदलाव करने की आवश्यकता होती है. आज तापमान में काम ज्यादा वृद्धि के कारण गेहूं के उत्पादन पर भी असर पढ़ते हुए नजर आ रहा है, ऐसे में वैज्ञानिक ऐसी किस्म को विकसित करने में लगे हुए हैं, जिनसे की ज्यादा से ज्यादा उत्पादन मिल सके.

गेंहू की सबसे ज्यादा पैदावार देने वाली किसने

साथ ही कम से कम बीमारियां लगे. आईसीएआर भारती गेहूं अनुसंधान संस्थान करनाल द्वारा कुछ ऐसी किस्म विकसित की है जिसका उत्पादन पहले की तुलना में काफी अच्छा है. इसमें  आईसीएआर-आईआईडब्ल्यूबीआर के प्रधान वैज्ञानिक डॉ अमित कुमार शर्मा गेहूँ की इन किस्मों की खासियतों के बारे में गाँव कनेक्शन से बताते हैं, “जिस तरह तापमान बढ़ रहा है, हम लोग हीट प्रतिरोधी किस्में विकसित कर रहे हैं, जिससे गेहूँ उत्पादन पर असर न पड़े। ये तीन किस्में ऐसी ही किस्में हैं, ये सभी बायो फोर्टिफाइड किस्में हैं, जिनमें और भी कई खूबियाँ हैं।

यदि किसान आलू की खेती के लिए अपनाएं यह तरीका, तो होगी खेत में बंपर आवक, कमाई होगी चार गुना, देखे तरीका

डीबीडब्ल्यू गेंहू की किस्में-

डीबीडब्ल्यू370 (करण वैदेही ), डीबी डब्ल्यू371 (करण वृंदा ), डीबीडब्ल्यू372 (करण वरुणा ) विकसित की हैं। जिनका उत्पादन पहले की कि स्मों से कहीं ज्यादा है।

उत्तरी गंगा सिंधु के मैदानिक क्षेत्र आज गेहूं के लिए सबसे अच्छे क्षेत्र है. यहां पर उत्पादन काफी अच्छा होता है. उत्पादक राज्य में पंजाब हरियाणा दिल्ली राजस्थान और उदयपुर संभाग को छोड़कर पश्चिम उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में आपको अच्छी फसल देखने को मिल जाएगी.

इस गेंहू की कई विशेषता –

इनके द्वारा बताई गई यह तीन किस्म में उत्पादन में काफी बेहतर है. और यह 87.01 क्विंटल प्रति हेक्टेयर और औसत उपज 75.01 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक देने में सक्षम है. इसके पौधों की ऊंचाई 100 सेंटीमीटर और पकने की अवधि 150 दिन और 1000 दोनों का भार 46 ग्राम होता है. इस किस में प्रोटीन और लोह तत्व भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है. यदि आप इस तरह की फैसले किसान उगाते हैं तो, यह किसानों को काफी फायदा दे सकती है. यह किस्म पिला और बड़ा रतवा की सभी रोगजनक प्रकारों के लिए प्रतिरोधी भी पाई गई है.

Some Error