क्या जीरा फिर से करेगा तांडव? ऊंझा में 1 अप्रैल और मेड़ता मंडी में 3 अप्रैल से खुली नीलामी

जीरे के दाम बढ़ सकते हैं. गुजरात की उंझा मंडी में कल से खुली नीलामी शुरू होगी. उंझा मंडी 23 मार्च से बंद है. होली त्योहार और मार्च क्लोजिंग के चलते बाजार में 8 दिन की छुट्टी थी. मेड़ता और उंझा दोनों बड़ी मंडियां खुलने से जीरे के दाम बढ़ सकते हैं. नए जीरे की आवक शुरू हो गई है. जीरे की कीमतों में गिरावट को देखते हुए किसान मित्र अभी भी जीरे की बिक्री पर कम ध्यान दे रहे हैं. ऊंझा मंडी में कल 1 अप्रैल से और मेड़ता मंडी में 3 अप्रैल से खुली नीलामी होने से जीरे के दाम बढ़ सकते हैं.

बारिश से हुई फसल ख़राब का बीमा कम्पनी को करना होगा 1.18 लाख रूपये का भुगतान

जीरे के दाम बढ़ सकते हैं. बाजारों में नए जीरे की आवक लगभग शुरू हो गई है. पिछले साल इन्हीं दिनों में जीरे की कीमत में काफी बढ़ोतरी हुई थी, लेकिन फिलहाल जीरे की कीमत में मंदी का माहौल है. होली त्योहार और मार्च क्लोजिंग के चलते दोनों बड़े बाजार ऊंझा और मेड़ता बंद हैं. पिछले 8-10 दिनों से मेड़ता और ऊंझा मंडी में खुली नीलामी बंद होने से इसका असर कीमतों पर भी दिख रहा है.

राजस्थान में नए तंत्र से बदला मौसम, आंधी के साथ बारिश और ओलावार्ष्टि, आज 13 जिलों के लिए अलर्ट

मेड़ता और उंझा में मंदी के कारण जीरे के दाम बढ़ सकते हैं। गुरुवार को वायदा बाजार भी बढ़त के साथ बंद हुआ। सोमवार से वायदा बाजार में जीरा की कीमतें ऊंची खुलने की संभावना है।

फसल बीमा वितरण शुरू : 17 जिलों में फ़सल बीमा वितरण शुरू, फसल बीमा लिस्ट में अपना नाम देखे

Some Error