1 अक्टूबर से फिर बंद हो जाएंगे पेट्रोल पंप, हड़ताल पर जाएंगे पंप संचालक

राजस्थान में पीछे पेंट्रोल पंप संचालको ने भारी भरकम वैट के खिलाफ पेंट्रोल पंप बंद रखे, 15 सितम्बर 2023 को सरकार ने 10 दिन की सहमती पर पेंट्रोल पंप वापिस शुरू करवाए, आज 13 दिन बिट जाने के बाद भी कोई सुचना नही देने से राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स ने नाराजगी जताते हुए 1 अक्तूबर से दोबारा पेंट्रोल पंप बंद करने की बात खी है.

राजस्थान के पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह भाटी के अनुसार पेंट्रोल डीजल रेट पर भारी कर लगाने से भाव असमान छू रहे है, और राजस्थान में पड़ोसी राज्यों से बहुत महंगा पेट्रोल डीजल हो गया है. ऐसे में लोग अपने फायदे के लिए पड़ोसी राज्यों से चोरी छुपे पेट्रोल डीजल की सप्लाई कर रहे है. इसके कारण स्थानीय पंप संचालको को भारी नुकसान हो रहा है.

सबसे महंगा पेट्रोल-डीजल राजस्थान में

सरकार के पेंट्रोल पंप रेट लिस्ट के अनुसार भारत देश में सबसे महंगा पेंट्रोल राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में है, यहाँ एक लीटर पेट्रोल आज की गणना के अनुसार 113.30 रूपये प्रति लिटर और डीजल 98.07 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है.

सबसे सस्ता पेंट्रोल डीजल

राजेन्द्र बहती ने बताया की राजस्थान में फ्यूल के रेट आसमान छू रहे है वहीँ भारत के पोर्ट ब्लेयर में आज सबसे सस्ता पेट्रोल 84.10 रुपए प्रति लीटर और डीजल 79.74 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है. भारत हम सबके लिए एक है फिर जनता को राज्य की सरकार भारी वैट के कारण त्रस्त कर रही है.

1 अक्टूबर से फिर बंद हो जाएंगे पेट्रोल पंप

राजस्थान के पेट्रोल पंप के संचालको ने 1 अक्तूबर से फिर हड़ताल पर जाने की तैयारी का प्लान किया है. जानकारी के अनुसार 1 अक्तूबर को पुरे राजस्थान में सभी कम्पनी के पेंट्रोल पंप सुबह 6 से शाम 6 बजे तक सांकेतिक हड़ताल पर रहेंगे. समय पर मांग पूरी नहीं की गयी तो 2 अक्टूबर को भी अनिश्चितकालीन समय के लिए हड़ताल की जाएगी.

राजस्थान में इसी महीने 13 व् 14 तारीख को दो दिन की सांकेतिक हड़ताल की गयी थी. सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया प्राप्त ना होने से नाराज संचालको ने दोबारा हड़ताल का फैसला लिया है.

हाई वैट रेट के कारण बंद हो चुके हैं 270 पेट्रोल पंप

एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र बहती के अनुसार राजस्थान में हाई वैट रेट के चलते 270 पेट्रोल पंप बंद हो चुके हैं। सरकार के भारी वैट की परेशानी से 2000 पंप और बंद होने की कगार पर है, क्योंकि रोजाना 50 से 100 लिटर तेल की बिक्री के चलते खर्चा भी प्राप्त करना मुश्किल हो गया है.

Some Error