भयंकर गर्मी में झेलना पड़ेगी बिजली की मार, राजस्थान में एक बार फिर गहराया बड़ा बिजली संकट, देखे

गर्मी का मौसम शुरू होते ही कई जगहों पर बिजली का संकट भी देखा जाता है, ऐसे में आप राजस्थान में भी बिजली संकट गहराता हुआ नजर आ रहा है, ये परेशानी इसलिए हो रही क्योंकि राज्य में विद्युत उत्पादन प्रभावित होने की संभावना है.

राजस्थान के झालावाड़ में बिजली संकट

झालावाड़ जिले से बड़ी खबर इस समय सामने आई है, जहां 600 मेगावाट यूनिट उत्पादन करने वाला पावर प्लांट अब बंद हो गया है. वही झालावाड़ जिले के उंडल गांव में स्थित कालीसिंध थर्मल पावर प्लांट की पहली यूनिट मे तकनीकी खराबी आ गई है, जिसकी वजह से इसे बंद किया गया है, हालांकि दूसरी यूनिट अभी संचालित की जा रही है और उसमे कार्य होते हुए नजर आ रहा है।

जानिये आखिर भारत में किस राज्य की लडकिया सबसे अधिक शराब पीती है, सालाना होती है इतनी खपत, देखे रिपोर्ट

दो इकाइयो में से एक बंद हुई

झालावाड़ के इस प्लांट में 600 – 600 मेगावाट की दो इकाइयां स्थापित है, इस पावर प्लांट को चीनी तकनीक से बनाया गया है, वही इस्तेमाल पावर प्लांट में आए दिन समस्याएं देखने को मिल रही है. इससे पहले भी पिछले महीने इस इकाई में बार-बार फाल्ट आया था, इसके लिए विद्युत उत्पादन निगम ने यूनिट का मेंटेनेंस भी करवाया गया, लेकिन मेंटेनेंस होने के बाद भी इसमें कहीं बार फाल्ट देखा गया है, ऐसे में आम जनता को इस समय गर्मी की वजह से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

Ncdex वायदा बाजार 03 अप्रेल 2024 ओपन रेट: जीरा, हल्दी, कपास, ग्वार गम में तेजी

ऊर्जा मंत्री ने जाहिर की थी पहले भी चिंता

इस समस्या को देखते हुए इसके पहले भी ऊर्जा मंत्री ने चिंता जताई थी, अब गर्मी के सीजन में फिर से पहली यूनिट में ट्यूब लीकेज की खराबी आ गई है. इससे जहां बिजली की मांग तेजी से बढ़ी है, वहीं उत्पादन नहीं होने से लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा क्युकी बिजली की समस्या को दूर कर पाना मुश्किल होता है, वहीं अब केवल थर्मल पोएर की दूसरी इकाई से ही 600 मेगावाट विद्युत का उत्पादन हो रहा है।

अप्रैल से राजस्थान में आम जनता की जेब पर पड़ेगा भारी असर, देखे महंगा होने जा रहा है ये सरकारी काम,,

जानकरी के लिए बतादे की, डेढ़ महीने पहले कालीसिंध थर्मल के दौरे पर आए ऊर्जा मंत्री हीरालाल नागर भी थर्मल यूनिट के बार-बार बंद होने को लेकर चिंता जता चुके हैं.

Leave a Comment

Some Error