किसानो को कपास फसल के नुकसान होने सरकार दे रही 30,000 रुपए प्रति एकड़ का मुआवजा, 27 सितम्बर से पहले यहा करे आवेदन

देश भर के किसान अक्सर प्राकृतिक आपदाओं के चलते फसलों में नुकसान उठाते हुए देखे जा सकते हैं, लेकिन इसके लिए सरकार विभिन्न तरह की योजनाएं भी चलाती है, जिससे कि उन्हें आर्थिक नुकसान की भरपाई की जा सके।

कपास फसल मुआवजा

इसी कड़ी में हरियाणा सरकार द्वारा भी कपास की खेती के लिए हरियाणा फसल सुरक्षा योजना चल रही है। इसके तहत किसानों को कपास की फसल प्राकृतिक आपदा के खराब होने पर अधिकतम ₹30 हजार प्रति एकड़ की दर से मुआवजा भी प्रदान किया जा रहा है।

सात जिलों को किया शमील

इस योजना के तहत राज्य के कुल सात जिलों को शामिल किया गया है। यह योजना पूरी तरह से राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही है, जिसके तहत फसल में हुए कपास के नुकसान पर किसानों को भरपाई की जाएगी। आपको बता दे की यह योजना सिर्फ अभी कपास की खेती पर ही लागू की गई है। इस योजना में किसानों को प्रधानमंत्री कब का फसल बीमा योजना की ही तरह मामूली प्रीमियम भी देना होता है।

इस योजना को इस समय अंबाला, हिसार, गुरुग्राम, जींद, करनाल, महेंद्रगढ़ एवं सोनीपत जिले में शामिल किया गया है। इन जिलों में सबसे अधिक कपास की खेती की जाती है। इसके लिए यहां इस फसल को लिया गया है। साथ इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को अपना पंजीयन करवाना होता है।

5% शुल्क निर्धारित किया गया

इस योजना के तहत किसान अपना पंजीयन करवा सकते हैं ,इसके लिए 5% शुल्क भी निर्धारित किया गया है। यदि किसानों को हरियाणा फसल सुरक्षा योजना में सम्मिलित होना है तो, उनको ₹1500 प्रति एकड़ की दर से इसका प्रीमियम भुगतान करना होता है। इस फसल बीमा योजना के तहत सरकार द्वारा फसल खेती होने पर ही राशि का निर्धारण किया है, जिसके तहत अधिकतम ₹30000 प्रति एकड़ की दर से वित्तीय सहायता सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी।

यहा से करें पंजीयन?

किसान दिए गए शुल्क के साथ योजना का लाभ लेने के लिये ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया 21 सितम्बर 2023 से शुरू हुई है, 27 सितंबर 2023 तक जारी रहेगी। किसान योजना से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए कृषि तथा किसान कल्याण विभाग, हरियाणा की वेबसाइट www.agriharyana.gov.in पर देखें या टोल फ्री नंबर 1800-180-2117 पर कॉल करें।

Some Error