खेतो में लगाये यह फल, 3 महीने खेती करके अगले 3 महीने तक कमाए लाखो रुपए, देखे आसान तरीका

आज के समय में किसान कई तरह के फलों की खेती करते हुए नजर आ रहा है, जिससे कि काफी अच्छी मात्रा में उत्पादन करके पैसा भी कमा रहा है। आज हम आपको एक ऐसी फसल के बारे में बताने जा रहे हैं जो की, ठंड के सीजन में मार्केट में आ जाता है, इससे किसानों को लागत भी काफी अधिक होते हुए नजर आ रही है।

स्ट्रॉबेरी की खेती

आज हम आपको भारत में स्ट्रॉबेरी की खेती के बारे में बताने जा रहे हैं। इस खेती में हिमाचल प्रदेश कश्मीर उत्तराखंड, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश के अलावा झारखंड में भी काफी ज्यादा उत्पादन देखा जाता है और यहां पर इसकी खेती की जाती है।

3 महीने तक ले सकते है लाभ

यदि आप भी किसी ऐसे फल की खेती करना चाहते हैं जो की, काफी अच्छा उत्पादन देता है। साथ ही पैसा भी देता है तो, आप स्ट्रॉबेरी की खेती कर सकते हैं। इसकी खेती करने से किसानों को काफी अच्छा मुनाफा भी मिलता है। इसे करने के लिए सबसे अनुकूल मौसम अक्टूबर से शुरू होता है, जिसमें 3 महीने में फाल तैयार होते हैं और मार्च तक इसके फल से लाभ कमा सकते हैं। इस तरह से आप 3 महीने खेती करके 3 महीने इसके लाभ ले सकते हैं।

इस तरह शुरू करे खेती –

स्ट्रॉबेरी के पोधे लाकर उन्हें खेतो में लगाये, जो की 10 रुपए प्रति पौधे के रेट से मिलता है। वहीं, एक एकड़ में करीब 20 से 22 हजार पौधे लगते हैं। वही एक एकड़ में इसकी खेती के लिए 3 लाख तक का खर्च आता है। इसके बाद उस खेती की 3 से 4 बार जुताई कर लें। कीट से बचाव हेतु फॉस्फेट और पोटाश मिला सकते हैं। इसके बाद 30 सेंटीमीटर ऊंची और 90 सेंटीमीटर चौड़ी मेड़ तैयार करें, जहा इसके बाद मेड़ में ड्रिप एरिगेशन की पाइपलाइन को बिछा दें। अब मेड़ पर मल्चिंग करके मल्च में 20-20 सेंटीमीटर की दूरी पर एक-एक पौधा लगाएं। इस तरह से एक एकड़ में लगभग 20 से 24 हजार पौधे लगाएं।

इस तरह होगी कमाई

बता दे की, एक पौधे में 300 से 400 ग्राम तक स्ट्रॉबेरी निकलती है। इसके फल को तैयार होने पर किसान अच्छी तरह पैकिंग कर मार्केट में 300 से 400 रुपये प्रति किलो की दर से बेच सकते हैं।

यह भी देखे:- सरकार देने जा रही इन 20 जिलों में Free सोलर पैनल, इस योजना के तहत यहा से करे आवेदन

प्रदेश में 10 मार्च से चलेगी तेज धूलभरी हवा, साथ में गिरेगी हल्की बोछारे

फसल बीमा क्लेम, 23 करोड रुपए का मुआवजा हुआ मंजूर, 09 जिलो के किसानो को मिला तोहफा…

Some Error