200 साल पहले अचानक गायब हो गया राजस्थान का यह गांव, यहा दिन में भी सुनाई देती है भूतों की आवाज

आज भारत में आपको कई ऐसी जगह देखने को मिल जाएगी जो कि आज भी काफी रहस्य से भरी हुई है। उनमें से एक राजस्थान में स्थित कुलधरा गांव है जो, हजारों सालों से शापित माना जाता है। इस जगह पर लोगों को दिन में जाने में भी डर लगता है, आइये जानते है, इस गाँव के बारे में,,,

राजस्थान का विचित्र गाँव

जिस तरह से राजस्थान में आपको दिलचस्प पहनावा और नायाब कलाकृति के साथ प्रसिद्ध व्यंजन खाने को मिलते हैं। उसी तरह से राजस्थान में कुछ ऐसी भी जगह है जो की, काफी आश्चर्य से भरी हुई है। यहां की धरती में आज भी कई राज दफन है जो, सदियों से अनसुलझे हैं। बिल्कुल ऐसा ही एक राजस्थान के जैसलमेर जिले के कुलधरा गांव में भी एक राज दफन है, जिसे आज भी सुलझाने की कोशिश की जा रही है।

बेमोसम खराब हुई फसल पर, अब सरकार दे रही किसानो को बंपर मुआवजा, इस तरह उठाये बीमे का लाभ,,,

कुलधरा गाँव का रहस्य

यह गांव 17 किलोमीटर दूर जैसलमेर से स्थित है। इस गांव में किसी तरह की कोई बसावट नहीं है और ना ही यहां पर कोई रहता है। दूर-दूर तक सन्नाटा पसरा हुआ रहता है, जिन्हें देखकर अच्छे-अच्छे लोगों को भी पसीना आ जाता है, हालांकि इस राज को यहां के टूटे मकान और दीवारें दोगुना कर देती है। बताया जाता है कि, 6:00 बजे के बाद यहां कोई आता जाता नहीं है, लोगों के लिए अभी तक के गांव रहस्य से भरा हुआ है।

5000 से भी ज्यादा लोग रहते थे

दरअसल इस गांव की कहानी 200 साल पुरानी है ओर गांव हमेशा से वीरान नहीं था। बताया जाता है कि इस गांव को पालीवाल ब्राह्मणों ने बसाया था और यहां 5000 से भी ज्यादा लोग रहते थे। लेकिन इस रियासत का दीवान काफी क्रूर और बेकार था उसकी गंदी नजर गांव के प्रधान की खूबसूरत बेटी पर थी। उसने गांव वालों को संदेश पहुंचाया कि यदि गाँव के लोग उस लड़की को उसे सौंप दें, वरना उनको अंजाम भुगतना पड़ेगा। सत्ता के मोह में दीवान ने लड़की को पाने के लिए धमकी दी कि, अगर गांव वालों ने पूर्णमासी तक लड़की को नहीं सोपा तो वह उन पर हमला कर देगा।

गांव को दिया श्राप

इसके बाद सभी गांव वाले एकजुट हो गए और उन्होंने रातों-रात इस गांव को खाली कर दिया और जाते वक्त इस गांव को श्राप दिया कि, इस गांव में कोई भी व्यक्ति बस नहीं पाएगा। इसके बाद से यहां पर रूहानी ताकतों का कब्जा हो चुका है। इसके बाद यहां आस-पास के सभी गांव तो बस गए, लेकिन दो गांव कुलधरा और खाभा तमाम कोशिश के बावजुड़ आज भी वीरान है।

Some Error