राजस्थान चुनाव 2023: बीजेपी की पहली लिस्ट के बाद कांग्रेस में बढ़ी उथल-पुथल, जानिए अभी की टॉप 5 खबरें

राजस्थान चुनाव 2023: कांग्रेस जहां राजनीतिक इतिहास बदलकर सत्ता बरकरार रखने की उम्मीद कर रही है, वहीं बीजेपी सत्ता में वापसी का दावा कर रही है. इधर, आरएलपी, बीएसपी और आप पार्टी भी सरकार बनाने के लिए अपने-अपने दावे कर रही हैं.
राजस्थान में विधानसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही चुनावी बिगुल औपचारिक रूप से बज चुका है। हर बार की तरह इस बार भी मुख्य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच है. कांग्रेस जहां राजनीतिक इतिहास बदलकर सत्ता बरकरार रखने की उम्मीद कर रही है, वहीं बीजेपी सत्ता में वापसी का दावा कर रही है. इधर, आरएलपी, बीएसपी और आप पार्टी भी सरकार बनाने के लिए अपने-अपने दावे कर रही हैं. इन सभी आंदोलनों ने ‘राजस्थान के रण’ को रोमांचक बना दिया है. इन हलचलों के बीच पेश हैं मौजूदा टॉप-5 राजनीतिक खबरें.

ये दोनों विधानसभा सीटें कांग्रेस का गढ़ मानी जाती हैं, क्या इस बार खिलेगा कमल, देखिए ये रिपोर्ट

‘संकल्प पत्र’ तैयार करने में जुटी बीजेपी
पहली बड़ी खबर बीजेपी से है, जिसने विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होने के अगले दिन ही अपना ‘संकल्प पत्र’ तैयार करना शुरू कर दिया है. इसके लिए आज जयपुर स्थित प्रदेश बीजेपी मुख्यालय में संकल्प समिति की अहम बैठक बुलाई गई है. बैठक की अध्यक्षता समिति की अध्यक्षता कर रहे केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल करेंगे. इस बैठक में शामिल होने के लिए समिति में शामिल अन्य सभी वरिष्ठ नेता जयपुर में हैं. संकल्प समिति के अध्यक्ष केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल के अलावा समिति के सह संयोजक सांसद घनश्याम तिवाड़ी और सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीना भी मौजूद रहेंगे. इनके अलावा समिति के अन्य सदस्यों को भी जयपुर बुलाया गया है. समिति की अंतिम बैठक तीन अक्टूबर को प्रदेश मुख्यालय में हुई थी.

आचार संहिता लगने से पहले सीएम अशोक गहलोत ने किये 15 बड़े फैसले, देखें किसको कितना क्या मिला?

पोस्टर विवाद पुलिस तक पहुंच गया

दूसरा बड़ा मामला बीजेपी के ‘नहीं सहेगा राजस्थान’ कैंपेन पोस्टर विवाद से जुड़ा है, जिसमें नया मोड़ सामने आया है. जैसलमेर के किसान माधुराम जयपाल ने अब बीजेपी पर मान-हानि का आरोप लगाया है. इस संबंध में जैसलमेर के रामदेवरा थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई है. मधुरम ने अपनी बात दोहराते हुए रोज़नाम की रिपोर्ट में कहा कि बीजेपी ने बिना उनसे सलाह लिए उनकी तस्वीर को अपनी प्रचार सामग्री में इस्तेमाल किया है, जिससे उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है. इतना ही नहीं आम लोगों और समाज के बीच मेरी बदनामी हुई है.

उत्तर भारत में 4 दिन बाद वेस्टर्न डिस्टर्बेस एक्टिव, राजस्थान के साथ इन राज्यों में बारिश होने की फुल संभावना

मधुराम ने इस मामले में दोषियों पर तुरंत कार्रवाई की मांग की है. आपको बता दें कि किसान मधुरम ने कुछ दिन पहले जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की थी और अपना दर्द बयां किया था. किसान मधुराम का कहना है कि उन्हें पेंशन, मुफ्त बिजली और कई अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है. जबकि भाजपा ने गलत जानकारी और तथ्यों के साथ सरकार के खिलाफ प्रचार सामग्री में उनके चेहरे का इस्तेमाल किया है, जो पूरी तरह से गलत और आहत करने वाला है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने जैसलमेर जिला कलेक्टर को किसान की फोटो वाले पोस्टर हटाने के आदेश दिए थे.
फिर सामने आये सीएम के ओएसडी

तीसरी बड़ी खबर राजस्थान के सीएम ओएसडी लोकेश शर्मा को लेकर है…जिन्हें फोन टैपिंग मामले में दिल्ली क्राइम ब्रांच ने आज 9वीं बार नोटिस जारी कर तलब किया है. शर्मा ने दिल्ली हाई कोर्ट में इस मामले पर कल होने वाली सुनवाई से ठीक एक दिन पहले पूछताछ के लिए बुलाए जाने पर भी सवाल उठाए हैं. सीएम ओएसडी का कहना है कि क्राइम ब्रांच अब तक उन्हें आठ बार नोटिस जारी कर चुकी है, जिनमें से चार बार पूछताछ के दौरान उन्होंने सारे तथ्य और सबूत पेश कर अपना पक्ष रखा है. पिछली बार 20 मार्च को करीब 9 घंटे तक कड़ी पूछताछ हुई थी.

इस मशीन से बिना ट्रैक्टर के करे फसल कटाई का कार्य, मशीन खरीदने पर सरकार देगी 50% तक की सब्सिडी

इसके बावजूद बार-बार नोटिस और समन जारी करना अनावश्यक परेशानी पैदा कर रहा है। इस बीच, राज्य में विधानसभा चुनाव की हलचल के बीच सीएम ओएसडी और उनके समर्थकों को डर है कि यह मामला कोई नया मोड़ ले सकता है. सीएम के ओएसडी की गिरफ्तारी की भी अटकलें लगाई जा रही हैं. आपको याद दिला दें कि यह मामला मार्च 2021 का है जब केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने लोकेश शर्मा पर फोन टैपिंग का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ नई दिल्ली में एफआईआर दर्ज कराई थी.
कांग्रेस की पहली लिस्ट पर ‘सस्पेंस’!

चौथी बड़ी खबर ये है कि उम्मीदवारों की बहुप्रतीक्षित सूची में कांग्रेस भी शामिल है…हालांकि उम्मीदवारों की घोषणा में बीजेपी ने बाजी मार ली है. इधर, बीजेपी की सूची जारी होने के बाद कांग्रेस में हलचल मच गई है. हालांकि कांग्रेस के उदयपुर चिंतन शिविर में जल्द टिकट बांटने का संकल्प लिया गया था, लेकिन यह संकल्प साकार होता नजर नहीं आ रहा है. अब चुनाव की घोषणा हो चुकी है. ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस की भी सूचियां जारी हो जाएंगी. वैसे भी चर्चा थी कि बीजेपी की लिस्ट के बाद ही कांग्रेस अपनी पहली लिस्ट जारी करेगी. पितृ पक्ष चल रहा है तो संभावना है कि कांग्रेस अपनी पहली सूची नवरात्रि के पहले दिन घोषित कर सकती है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव सीमित बैठक 12-13 अक्टूबर को होगी. जिसमें उम्मीदवारों के नाम पर अंतिम मुहर लगेगी.

बीजेपी की लिस्ट में कई लोगों के टिकट काट दिए गए.

पांचवीं बड़ी खबर राजस्थान बीजेपी से है. विधानसभा चुनाव के लिए जारी 41 उम्मीदवारों की पहली सूची संलग्न है। सामने आया है कि इनमें से 39 सीटें ऐसी हैं जिन पर बीजेपी के उम्मीदवार 2018 का चुनाव हार गए थे. जबकि पिछले तीन चुनावों में बीजेपी को 11 सीटों पर हार मिली थी. इस सूची से प्रदेश के नेताओं को झटका लगा है. सूची में बीजेपी आलाकमान द्वारा कराए गए सर्वे और आरएसएस की सलाह को प्राथमिकता दी गई है.

किसान इस विदेशी फल की खेती से लाखों की कमाई कर सकते है, जानें कैसे होती है, इसकी खेती

बीजेपी ने छह लोकसभा और एक राज्यसभा सांसद को टिकट देने के साथ ही एक रिटायर आईएएस अधिकारी को भी अपना उम्मीदवार बनाया है. लिस्ट में शामिल जिन लोगों को 2018 के विधानसभा चुनाव में टिकट दिया गया था, उनमें से 29 के टिकट रद्द कर दिए गए हैं. यानी 29 सीटों पर पिछला विधानसभा चुनाव लड़ने वालों की जगह नए चेहरों को मैदान में उतारा गया है. गुर्जर आरक्षण आंदोलन का नेतृत्व करने वाले दिवंगत कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के बेटे विजय बैंसला को उनियारा सीट से टिकट दिया गया है.

Some Error