इन दो गेंहू की किस्मो को अक्टूबर में लगाने से किसान हो जायेगे मालामाल, देखे इसकी विशेषताएं

इस समय किसान अपने खेतों में गेहूं बोने की तैयारी शुरू कर रहे हैं। ऐसे में यदि आप भी अपने खेतों में गेहूं लगाना चाहते हैं तो, आप इन दो किस्म का उपयोग कर सकते हैं। यह दोनों किस्म गेहूं की काफी प्रभावशाली है और इसका उत्पादन भी काफी अधिक देखा गया है।

एचएस 542 और 562 गेंह की किस्म

इन दो किस्मों एचएस 542 और 562 किस्म अब किसानों के लिए उपलब्ध होंगे। इस बार हिमाचल प्रदेश के कृषि विभाग को इन दोनों किस्म की 300 क्विंटल प्रजनन बीज उपलब्ध करवाई गई है। किसान अपने ब्लॉक स्थित कृषि विभाग की सरकारी केंद्र से इन बीच को खरीद सकता है और अपने खेतों में लगा सकता है। यह किस्म एचएस 542 और 562 जम्मू कश्मीर उत्तराखंड में बुवाई के लिए सबसे उपयोगी किस्म मानी जाती है और इसमें जिंक और आयरन भी मौजूद है।

किस्म की  विशेषताएं

इन दोनों गेंहू की किस्म में काफी विशेषताएं भी देखी गई है, यह किसानों के लिए भी काफी फायदेमंद है। इनमे जिंक, प्रोटीन, फाइबर, आयरन, की मात्रा प्रचुर मात्रा में पाई गई है जो आपके खाद्य पदार्थों को और भी अधिक पौष्टिक बना देती है। इसके साथ ही यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ती है। जिससे पौधों में लगने वाली बीमारियों को भी बचाता है। इसे द्वारा बनाई गई ब्रेड और चपाती खाने के लिए काफी उपयुक्त है। इन किस्म का आता चपाती और ब्रेड बनाने के लिए काफी ज्यादा उपयोगी होता है और इसमें अच्छे गुण भी होते हैं।

बुवाई का सबसे बेहतर समय

इस गेहूं के बीज को बोने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर रिश्ते किसानों को इसी माह इसकी बुवाई करनी होगी। यदि बुवाई के लिए आप खेत तैयार करने के लिए गोबर की खाद का उपयोग करते हैं तो, इसमें आपकी उत्पादन में भी काफी सुधार देखने को मिल सकता है। इसके साथ अभी खेतों में नमी है इसलिए या ना में बीजों के अंकुरण में भी सहायक होगी ऐसे में आप इन दोनों ही किस्म को अपने खेतों में लगा सकते हैं।

Some Error