ओपन मार्केट सेल स्कीम (OMSS) | खुला बाजार बिक्री योजना (घरेलू) क्या है?

ओपन मार्केट सेल स्कीम (OMSS) के तहत, भारतीय खाद्य निगम ने कीमतों को सामान्य करने के साथ-साथ भारत के अंदर चावल और गेहूं की कमी वाले स्थानों में आपूर्ति बढ़ाने के लिए पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश में अगस्त 2014 में ओपन मार्केट स्कीम की शुरूवात की। ओएमएसएस (खुली बाजार बिक्री योजना) समय-समय पर केंद्र सरकार और सरकारी एजेंसियों द्वारा निर्धारित मूल्यों पर चावल और गेंहू की बिक्री को संदर्भित करता है।

ओपन मार्केट सेल स्कीम (OMSS)

केंद्र सरकार के आदेश पर भारतीय खाद्य निगम (FCI) अन्य कल्याणकारी योजनाओं (OWS) और लक्षित सार्वजनिक वितरण योजना की आवश्यकता को पूरा करने के लिए और गेहूँ और चावल की आपूर्ति बढ़ाने के लिए खुले बाजार में गेहूं और चावल बेचता है। योजना का निर्वहन किसी  क्षेत्र में कमी आने पर किया जाता है.

इस योजना का संचालन करने के लिए पारदर्शिता को ध्यान में रखते हुए खुला बाजार बिक्री योजना (घरेलू) के तहत बिक्री के लिए ई-नीलामी करता है। योजना का विस्तार FCI इसे NCDEX कमोडिटी एक्सचेंज का उपयोग लेकर साप्ताहिक नीलामी आयोजित करता है.

योजना का लाभ लेने के लिए केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य सरकारों को ई-नीलामी में भाग लेने की अनुमति दी जाती है.

खुला बाजार बिक्री योजना की कीमते

गेंहू:- ओपन मार्केट स्कीम के तहत पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश में गेंहू की कीमते 1640/- रूपये प्रति क्विंटल है. इन राज्यों के आलावा राज्यों में परिवहन शुल्क अलग से अदा करना पड़ता है.

चावल:- कच्चे चावल ग्रेड ‘ए’ की बिक्री रेट 2400/- रूपये प्रति क्विंटल है, नियमानुसार पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश को छोडकर अन्य स्थानों पर परिवहन शुल्क अलग से अदा करना पड़ता है.

नोट:- कीमतो का निर्धारण केंद्र सरकार की तरफ से भारतीय खाध निगम (FCI) तय करता है, कीमतों का वर्तमान मूल्य जानने के लिए अधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करें.

योजना का उद्देश्य

  • देश के किसी क्षेत्र में गेंहू और चावल की कमी आने पर निर्धारित कीमतों के साथ आपूर्ति बढ़ाना.
  • सरकार के निर्देश पर भारतीय खाद्य निगम (FCI) के तहत खुले बाजार में गेहूं और चावल बेचना
  • आपूर्ति में बढ़ावा देने के साथ साथ कीमतों को सामान्य करना

योजना के घटक

  • ओपन मार्केट सेल स्कीम (OMSS) में 3 योजनाएं सम्मिलित हैं:
  • निजी व्यापारियों और थोक उपभोक्ताओं को ई-नीलामी के माध्यम से गेहूं की बिक्री।
  • समर्पित परिचालन द्वारा ई-नीलामी के माध्यम से प्राइवेट व्यापारियों/ थोक उपभोक्ताओं को गेहूं की बिक्री।
  • ई-नीलामी के माध्यम से कच्चे चावल ग्रेड ‘ए’ की बिक्री।

पारदर्शी प्रक्रिया

  • खुला बाजार बिक्री योजना (घरेलू) के तहत पारदर्शिता के लिए निगम ने बिक्री के लिए ई-नीलामी का उपयोग किया है।
  • इसकी साप्ताहिक नीलामी FCI कमोडिटी एक्सचेंज NCDEX प्लेटफॉर्म पर संचालित की जाती है.
  • नीलामी ई-नीलामी से करने का प्रावधान रखा गया है, केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य सरकारों को टीपीडीएस और ओडब्ल्यूएस के बहर चावल और गेंहू की आवश्यकता पड़ने पर e नीलामी के लिए अनुमति प्रदान की जाती है.

ओएमएसएस योजना के तहत गेंहू की बिक्री

ओएमएसएस योजना के तहत गेंहू की बिक्री
ओएमएसएस योजना के तहत गेंहू की बिक्री

इस योजना के तहत साल 2019-20 में 36,35,910 टन, साल 2020-21 में 21,32,040 टन गेंहू, साल 2021-22 में 70,37,809 टन, साल 2022-23 में 10,417 टन गेंहू का लाभ भारत देश में कमी वाले क्षेत्रो में पहुंचाया गया . अभी वर्तमान में केंद्र सरकार ने गेंहू के बढ़ते दामो को काम करने के लिए 30 लाख टन गेंहू की स्वीकृति ओएमएसएस योजना के तहत प्रदान की है.

Some Error